Tuesday, May 21, 2024
Homeत्यौहारनाग पंचमी का पर्व कब और कैसे मनाया जाता है । किस...

नाग पंचमी का पर्व कब और कैसे मनाया जाता है । किस कुंडली दोष को दूर करता है ।

नाग पंचमी हिन्दू पंचांग के अनुसार हर वर्ष श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है । 2023 में यह त्योहार 21 अगस्त को मनाया जाएगा ।

नाग पंचमी भारतीय संस्कृति में एक महत्वपूर्ण पर्व है जो सांपो की पूजा और उनकी महत्वपूर्ण को मानने के लिए मनाया जाता है । यह पर्व विभिन्न रूपो में भारत के विभिन्न जगहों पर मनाया जाता है । इस लेख में , हम नाग पंचमी के तिथि और शुभ मुहूर्त , पूजा की विधि , पर्व का महत्व और इसके पीछे की कथाएँ के बारे में विस्तार से जानेंगे ।

नाग पंचमी 2023 तिथि और शुभ मुहूर्त

तिथि21 -08-2023
शरुआत21 अगस्त के रात 12 बजे रात से
समाप्त22 आगस्त के रात्रि 2 बजे
दिनसोमवार
शुभ योग21 आगस्त के सुबह से रात 9 बजे तक
अभिजीत मुहूर्तसुबह 11 :55 से दोपहर 12 :35 तक

नाग पंचमी पूजन विधि : भगवान नाग देवता की आराधना

नाग पंचमी के दिन शिव के प्रिय नाग देवता की पूजा विशेष भावना और आराध्या के साथ की जाती है । नीचे हम आपको नाग पंचमी की पूजा विधि का सरल और सुलभ तरीका बताएगें ।

  • साफ सफाई और वस्त्र परिधान : – इस पूजा में साफ सफाई रखना जरूरी होता है । पवित्र वस्त्र ( पहले से नही पहना होना चाहिए । या धोने के बाद आप उसे पहली बार पहनने वाले वस्त्र ही पवित्र वस्त्र है ) होना चाहिए ।
  • कलश स्थापना:- पूजा स्थल पर एक लोटा में जल भरकर उसमें बिल्व पत्र, सपतश्रिंगी, दूधी, अखंड दिया, अक्षत, नाग कवच, गंध, अगरबत्ती, और फूल रखें।
  • मंत्र जाप: अपनी श्रद्धा के साथ नाग मंत्रों का जाप करें, जैसे कि “ॐ नागाय नमः” या “ॐ नाग देवताय नमः”।
  • नाग देवता की पूजा: अब नाग कवच का पाठ करें और नाग देवता की मूर्ति को फूलों से सजाकर पूजें।
  • नाग पंचमी कथा: नाग पंचमी की कथा सुनने के बाद, भगवान नाग देवता की आराधना करें।
  • आरती: आरती गाकर नाग देवता की पूजा को समाप्त करें।
  • प्रसाद वितरण: पूजा के पश्चात् अगर्बत्ती और दीपक को दरिद्र व्यक्तियों के लिए दान करें और प्रसाद को सभी को बाँटें।

नोट: पूजन विधि में कुछ बदलाव हो सकते हैं आपके परिप्रेक्ष्य में, लेकिन यह सामान्य तरीका होता है नाग पंचमी की पूजा करने का। आप अपने परंपरागत रूढ़ियों और संकेतों के अनुसार भी पूजा कर सकते

नाग पंचमी के चमत्कारिक उपायों से पाएं आर्थिक वरदान और सुरक्षा की कुंजी

ऐसा माना जाता है कि नाग पंचमी के दिन नाग देवता की पूजा करने से नाग देवता के आशीर्वाद को प्राप्त करने में मदद करता है । नाग पंचमी के दिन किन किन उपायों का पालन करना चाहिए आइये उसके बारे में जानते है ।

  • नाग कवच पाठ :- जब कोई व्यक्ति नाग पंचमी को नाग कवच का पाठ करता है तो उसे सर्प दोष से मुक्ति मिलती है और उसकी सुरक्षा बढ़ जाती है।
  • नाग मंत्रो का जाप :- नाग मंत्रो का नियमित जाप करने से आर्थिक समृद्धि आती है और संकटों से बचाव होता हैं ।
  • पूजा और व्रत :- यैसा नाम जाता है कि नाग पंचमी के दिन नाग देवता की पूजा और व्रत करने से व्यक्ति की समृद्धि बढ़ाती है और उसके जीवन में सुख शांति आती है ।
  • नाग पंचमी रत्नों का पहनना :- मोती , माणिक्य या मनियाक जैसे रत्नों का पहनने से व्यक्ति की आर्थिक स्थिति में सुधार होता है।
  • दान करना :- नाग पंचमी के दिन नागराज की मूर्ति को दूध , दुभि और फूलों से पूजन करने के साथ-साथ दान देने से व्यक्ति को आर्थिक और आध्यात्मिक लाभ मिलता है ।

कुंडली मे किन दोषों को दूर करने के लिए नाग पूजा करनी चाहिए

जिन लोगो के कुंडली मे कालसर्प दोष होता है तो उन्हें इस दोष के निवारण के लिए विधिवत पूजा काटने की जरूरत होती है । नाग पंचमी के दिन चांदी से बने नाग नागिन की पूजा करे और उन्हें जल में अर्पित करें । इससे जुड़ी पूजा विधि आपको पंडित जी अच्छे से बता देंगे । उनकी सहायता जरूर ले ।

नाग पंचमी मनाने का वैज्ञानिक कारण क्या हैं ?

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से नाग पंचमी का महत्व अधिकतर जगहों पर पुरानी परंपराओं मित्र को और भारतीय धार्मिक विचारधारा से जुड़ा होता है । वैज्ञानिक दृष्टिकोण से स्पष्ट नही हो सका है क्योंकि यह धार्मिक और सांस्कृतिक मान्यता पर आधारित है जिसमें आस्था और मान्यता भी शामिल है नाग पंचमी के पीछे कुछ व्यक्तिगत वैज्ञानिक कारण हो सकते हैं जैसे कि इस मौके पर नग की देखभाल और प्रेम के माध्यम से उनके प्रजनन और प्राणिक संरक्षण की जानकारी लोगों के बीच पहुंच सकती है वास्तविक में नाग पंचमी के परंपरागत समझ में अक्सर नागों के प्रति सहानुभूति प्राकृतिक संरक्षण और उनके महत्व की जागरूकता को बढ़ावा देने का मकसद हो सकता है कुल मिलाकर नगर नाग पंचमी का वैज्ञानिक कारण बताना आसान नहीं है क्योंकि यह धार्मिक सांस्कृतिक और परंपरागत मान्यताओं से जुड़ी है जिनमें आस्था और श्रद्धा का महत्व होता है ।

नाग पंचमी से जुड़े आपके सवालों के जबाब

नाग पूजा कितने दिनों तक करनी चाहिए?

नाग पूजा को सात दिनों तक करने से अधिक फल मिलता है, लेकिन कुछ मामलों में यह तीन दिनों तक भी की जा सकती है।

क्या नाग पूजा केवल ज्योतिष के लिए ही है?

नहीं, नाग पूजा केवल ज्योतिषीय दोषों को दूर करने के लिए नहीं है, बल्कि यह व्यक्ति की सभी क्षेत्रों में समृद्धि और सकारात्मकता लाने के लिए भी किया जा सकता है।

क्या नाग पूजा केवल हिन्दू धर्म में होती है?

जी हां, नाग पूजा प्रमुख रूप से हिन्दू धर्म में होती है, लेकिन कुछ अन्य संस्कृतियों में भी इसका आयोजन किया जाता है।

क्या नाग पूजा केवल विशेष परिस्थितियों में ही की जा सकती है?

नहीं, नाग पूजा को विशेष परिस्थितियों में ही नहीं, बल्कि सामान्य समय में भी किया जा सकता है। यह व्यक्ति की सभी क्षेत्रों में सकारात्मक परिवर्तन लाने में मदद कर सकती है।

नाग पंचमी का धार्मिक महत्व क्या है?

नाग पंचमी का धार्मिक महत्व हिन्दू धर्म में बहुत ऊँचा माना जाता है। यह पर्व नाग देवता की पूजा और सम्मान के रूप में मनाया जाता है और इसका मान्यता से व्यक्तिगत और सामाजिक उन्नति होने की कामना की जाती है।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments